11 जून 2016

अच्छी बाते अमल करो

अच्छी बाते अमल करो

एक अरबी हुजूर अकरम सल्लल्लाहो अलैहि व सल्लम के दरबार मे हाज़िर हुआ और अ़र्ज किया या रसूलल्लाह! मै कुछ पूछना चहता हूँ... सरकार ने फरमाया कहो...।

✔अर्ज़ किया: मैं अमीर बनना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: क़नाअत इखि्तयार करो अमीर हो जाओगे...।

✔अर्ज़ किया: मैं सबसे बडा आलिम बनना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: त़कवा इख्तियार करो आलिम बन जाओगे...।

✔अर्ज़ किया: इज्ज़त वाला बनना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: मख़लू़क के सामने हाथ फैलाना बन्द कर दो...।



Ye bhi Padhen  ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓
° Dood Pite Bachcho Ka Peshab Paak ya Napaak
° Zinaa Kya Hai
° Haabeel Aur Qabeel ka Qissa
° Ek Mobile Me 2 Whats App


✔अर्ज़ किया: अच्छा आदमी बनना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: लोगों को फायदा पहुंचाओ...।

✔अर्ज़ किया: आदिल बनना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: जिसे अपने लिये अच्छा समझते हो वही दूसरों के लिये पसंद करो...।

✔अर्ज़ किया: ताक़तवर बनना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: अल्लाह पर तवक्कुल (भरोसा) करो...।

✔अर्ज़ किया: अल्लाह के दरबार में खास दर्जा चाहता हूँ...।
फ़रमाया: कसरत से जिक्र ए इलाही करो...।

✔अर्ज़ किया: रिज्क़ में कुशादगी चाहता हूँ...।
फ़रमाया: हमेशा बावजू रहो...।

✔अर्ज़ किया: दुआओं की क़बुलियत चाहता हूँ...।
फ़रमाया: हराम न खाओ...।

✔अर्ज़ किया: ईमान की तकमील चाहता हूँ...।
फ़रमाया: अख्लाक़ अच्छे कर लो...।

✔अर्ज़ किया: क़यामत के दिन अल्लाह से गुनाहों से पाक होकर मिलना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: ज़नाबत के फौरन बाद गुस्ल किया करो...।

✔अर्ज़ किया: गुनाहों में कमी चाहता हूँ...।
फ़रमाया: कसरत से तौबा करो...।
अर्ज़ किया: क़यामत के रोज़ नूर में उठना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: जु़ल्म करना छोड़ दो...।


Ye bhi Padhen  ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓
° Namaz Ke MasaiL
° Ramzano ke MasaiL
° Nikah Ke Masail
° Auraton Ke MasaiL


✔अर्ज़ किया: मैं चाहता हूँ कि अल्लाह मेरी पर्दापोशी करे...।
फ़रमाया: लोगों की पर्दापोशी करो...।

✔अर्ज़ किया: रुस्वाई से बचना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: जिना से बचो...।

✔अर्ज़ किया: चाहता हूँ अल्लाह और उसके रसूल का महबूब बन जाऊँ...।
फ़रमाया: जो अल्लाह और उसके रसूल का महबूब हो, उसे अपना महबूब बना लो...।

✔अर्ज़ किया: अल्लाह का फ़रमाबरदार बनना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: फ़राइज़ का एहतिमाम करो...।

✔अर्ज़ किया: एहसान करने वाला बनना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: अल्लाह की यूँ बन्दगी करो जैसे तुम उसे या वह तुम्हें देख रहा हो...।

✔अर्ज़ किया: या रसूलल्लाह! क्या चीज़ गुनाहों से माफी दिलाएगी..?
फ़रमाया: अाँसू, आजिजी़ और बीमारी...।

✔अर्ज़ किया: क्या चीज़ दोज़ख़ की अाग को ठन्डा करेगी..?
फ़रमाया: दुनिया की मुसीबतों पर सब्र...।

✔अर्ज़ किया: अल्लाह के गुस्से को क्या चीज़ ठन्डा करेगी..?
फ़रमाया: चुपके-चुपके सदक़ा और सिला रहमी...।

✔अर्ज़ किया: सबसे बडी बुराई क्या है..?
फ़रमाया: बुरे अख्लाक़ और बुख्ल (कंजुसी!)...।

✔अर्ज़ किया: सबसे बड़ी अच्छाई क्या है..?
फ़रमाया: अच्छे अख्लाक़, तवज्जोह अौर सब्र...।

✔अर्ज़ किया: अल्लाह के गज़ब से बचना चाहता हूँ...।
फ़रमाया: लोगों पर गुस्सा करना छोड दो...।

New Message Apke Email Par Paane Ke Liye Subscribe Karen
Uske baad Apki Email Check kare Ek msg Ayega Uspar Click Kerke
Conform Karen Fir Apko Message Milna Shuru
Hojayenge


Aapko hamari Post kaise lagti
hai Comment box me Zaroor likhe
aur Is Post ko Like Share Karna Na bhoole

For More Msgs Click This Link
            www.diniraah.in
 
Baraye Karam Is Paigham ko Share kijiye
ALLAH Apko iska Ajar-e-Azeem Zaroor dega AAMEEN

●●►jazakALLAH khairan◄●●

╠ ♥ PLEASE SHARE ♥ ╣