3 मार्च 2017

Saali Aur bhawaj se Mazaaq karna


 साली और भावज से मजाक़ करना


बाज़ लोग साली और भावज से मज़ाक करते बल्कि उसे अपना हक ख्याल करते हैं

और उन्हें इस किस्म की बातों से रोका टोका जाए तो कहते हैं कि हमारा रिश्ता ही ऐसा है हालांकि इस्लाम में यह मज़ाक हराम बल्कि सख़्त हराम जहन्नम का सामान है।

औरतों और मर्दो के दरमियान मख़सूस मामलात से मुतअल्लिक। गन्दी और बेहूदा बातें ख़्वाह खुले अल्फाज़ में कही जायें या इशारों किनायों में सब मज़ाक हैं और हराम है।

हदीस शरीफ में जेठ, देवर और बहनोई से पर्दा करने की सख्त ताकीद  आई है और जिस तरह मर्दो के लिए साली और भावज से मजाक  हराम है ऐसे ही औरतों को भी देवर और बहनोई से मजाक हराम है

 ना मेहरम औरतों के पास जाने से  बचों एक अंसारी सहाबी फरमाने लगे या रसूल अल्लाह शौहर के भाइयों यानी देवर और जेठ
 से मुतालिक आप सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम का क्या हुकुम है रसूलल्लाह सल्लल्लाहो अलेही वसल्लम ने इरशाद फरमाया शौहर के भाई  तो मौत हैं यानी इन से पर्दा करने और दूर रहने का तो बहुत ज्यादा एहतिमाम करना चाहिए
 (सही मुस्लिम शरीफ जिल्द 5 हदीस नंबर 5674)

अल्लाह हमें हर तरह के गुना से बचने की तौफीक अता फरमाए आमीन

Saali Aur bhawaj se Mazaaq karna


Saali Aur bhawaj se Mazaaq karna

Roman Mein👇👇👇


baaz log saali aur bhaavaj se Mazaak karte balki use apna haq khyaal karte hain

aur unhen is kism kee baaton se roka toka jae to kehte hain ki hamaara rishta hee aisa hai haalaanki islaam mein yah mazaak haraam balki sakht haraam jahannam ka saamaan hai.

Auraton aur mardon ke darmiyaan makhsoos
maamlaat se mutallik. gandee aur behooda baaten khvaah khule alfaaz mein kahi jaayen ya ishaaron kinaayon mein sab mazaak hain aur haraam hai.

hadees shareef mein jeth, devar aur behnoyee se parda karne kee sakht taakeed aayi hai aur jis tarah Mardo ke lie saali
aur bhaavaj se mazaak haraam hai aise hee auraton ko bhee devar aur bahenoyee se mazaak haraam hai

 na mehram auraton ke paas jaane se bacho ek Ansaari sahaabi Farmaane lage
 Ya Rasool Allah shauhar ke bhaiyon yani devar aur jeth
 se mutaalik aap Sallallaaho alehee Wasallam ka kya hukm hai Rasoolallaah Sallallaaho Alehee Wasallam ne irshaad Faramaaya shauhar ke bhai to Maut hain yaani in se parda karne aur door rahene ka to bahut Zyaada ehatimaam karna chaahiye
 (Sahih Muslim Sharif jild 5 hadees 5674)

allaah hamen har tarah ke guna se bachane kee taupheek ata pharamae aameen

Ye bhi Padhen  ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓
► Kya-Quraan-Ki-Aayat-Wale-Message-Delete-Karne-Se-Gunaah-Milta-Hai
► Masla-3-Talaaq
► AURAT-KI-ZINDAGI-KE-4-DAUR
► Aaj-shadi-shuda-zindagi-kamyab-kyu-nahi
► ZUBAAN-KI-HIFAAZAT
► Valentine-Day-ki-Haqeeqat