16 फ़र॰ 2017

Raat ko der tak Jaagna Aur Subah ko der se Uthna

रात को देर तक जागने और सुबह को देर से उठना


 आजकल रातों को जागने और दिन को सोने का माहौल बनता जा रहा है हालांकि कुरान करीम
  की बाज आयात का मफहूम यह है कि हमने रात आराम के लिए बनाई और दिन काम करने के लिए

 इस्लामी मिजाज यह है कि रात को इशा की नमाज पढ़कर जल्दी सो जाओ और सुबह को जल्द उठ जाओ इशा की नमाज के बाद गैर जरुरी फालतू दुनियावी बातें करना मकरूह व ममनूअ़ है |

 हदीस शरीफ में हैं
  रसूल अल्लाह सल्लल्लाहु अलेही वसल्लम इशा की नमाज से पहले सोने को अौर इशा की नमाज के बाद बातचीत करने को नापसंद फरमाते थे यह हदीश बुखारी शरीफ मैं भी है और मुस्लिम शरीफ में भी
(मिश्कात बाबे तअ़जीलुस्सलात फस्ले अव्वल , सफहा 60)

Raat ko der tak Jaagna Aur Subah ko der se Uthna


 बाज मुदर्रेसीन और तलबा को देखा गया है कि वह रात को किताबें देखते हैं और काफी काफी रात तक किताबों और उनके हाशिये

 मैं लगे रहते हैं और सुबह को फ़जर की नमाज कज़ा कर देते हैं या नमाज़ पढ़ते भी हैं तो
  इस तरह की घड़ी देखते रहते हैं

 जब देखा कि 2, 4 मिनट रह गए और पानी सर से ऊंचा हो गया तो उठते हैं और जल्दी-जल्दी वुजू करके नमाज में परिंदों की तरह चार चोचे मारकर मुसल्ले से अलग हो जाते हैं

 ऐसी नमाज को हदीस ए पाक में हुजूर ने मुनाफिक की नमाज फरमाया और उनमें के वह लोग जो नमाजे छोड़ने या बे जमात के तंग वक्त में मुनाफिक़ की सी नमाज पढ़ने के आदी हो गए हैं

 उनके रात रात भर के मुतालेअ़ और किताबें देखना उन्हें नमाज मैं काहिली और सुस्ती अज़ाब से बचा न सकेगी

दरअस्ल यह वह लोग हैं जो किताब में पढ़ते हैं मगर नहीं जानते कि इल्म क्या है यह तलबीसे इब्लीस के शिकार हैं

 और शैतान ने इन्हें धोखे में ले रखा है कुछ का कुछ सुझा रखा है ऐसे ही वो

 वाएज़ीन व मुक़र्रेरीन, जलसे करवाने वाले और जलसे करने वाले तकरीरें करने वाले और सुनने और सुनाने वाले,

 इस ख्याल में न रहे कि उनके जलसे उन्हें नमाज ए छोड़ने के अजाब से नजात दिलाएंगे

  होश उड़ जाएंगे बरोजे क़ियामत नमाजों में लापरवाही करने वालों के और जल्दी-जल्दी मुनाफिको कि सी नमाज पढ़ने वालों के

 चाहिए अवाम हो या ख़वास मुकरि्र हो या शायर मुदर्रिस हो या मुफ्ती सज्जादानशीन हो या
 किसी बड़े बाप के बेटे या बड़ी से बड़ी खानकाह के मुजाविर और बरोजे कियामत जब नमाजों का हिसाब लिया जाएगा तो पता चलेगा कि कौन कौन कितना बड़ा खादिमे दीन और इस्लाम का ठेकेदार था?

  खुलासा यह है कि रात को देर तक जागना और सुबह को देर से उठने की आदत अच्छी नहीं

 हां अगर कोई शक फिल्में दीन के सीखना सिखाने या इबादत बार रजत में रात को जागे और फ़जर की नमाज भी अहतिमाम के साथ अदा कर ले तो वह मर्द ए मुजाहिद हे

 इस मैसेज को अपने सभी भाइयों बहनों तक जरूर शेयर करें अल्लाह अमल की तौफीक दे आमीन



Roman Me Padhen👇👇


Raat ko der tak Jaagna Aur Subah ko der se Uthna


 Aajkal raaton ko jaagne aur din ko sone ka maahaul banta ja raha hai haalanki Quraan kareem
 ki baaz aayaat ka mafahoom yeh hai ki hamane raat aaraam ke lie banayee aur din kaam karne ke lie

 islami mijaaz yah hai ki raat ko ishaa kee namaz padhkar jaldi
 so jao aur subah ko jald uth jao ishaa kee namaz ke baad gair Zaruri Faltoo duniyavi baaten karna makrooh va mamnoo
 hai

 hadees shareef mein hain
 Rasool allaah sallallaahu alehi Wasallam isha ki namaz se
 pahle sone ko aur isha ki
 Namaz ke baad baatcheet
 karne ko naapasand
 Farmaate the yah hadees bukhari shareef main bhi hai
 aur muslim shareef mein bhi
(mishkaat baabe tajeelussalaat fasle awwal, Page 60)

 baaz mudarreseen aur talba ko dekha gaya hai ki Weh raat ko kitaaben dekhte hain aur kafee kafee raat tak kitaabon aur unke haashiye

 main lage rahte hain aur subah ko fajar kee namaz kazaa kar dete hain ya namaaz padhte bhi hain to
 is tarah kee ghadi dekhte rahte hain

 jab dekha ki 2, 4 minat rah gae aur paani sar se ooncha ho gaya to uthte hain aur jaldee-jaldee vuzoo karke namaaz mein parindon kee tarah chaar choche maarkar musalle se alag ho jaate hain

 aisi namaaz ko hadees e paak mein huzoor ne munaafiq kee namaaz
 faramaaya aur unmen ke vah log jo namaaze chhodne ya be jamaat ke tang Waqt mein munaafiq ki see namaaz padhne ke aadee ho gae hain

 unke raat raat bhar ke mutaale aur kitaaben dekhana unhen namaaz main kaahilee aur susti azaab se bacha na sakegi

dar'asl yah vah log hain jo kitaab mein padhte hain magar nahin jaanate ki ilm kya hai yah talbeese iblees ke shikaar hain

 aur shaitaan ne inhen dhokhe mein le rakha hai kuchh ka kuchh sujha rakha hai aise hee vo

vaezeen va muqarrereen, jalse karvaane vaale aur jalse karane vaale takreeren karane vaale aur sunane aur sunaane vaale,

 is khyaal mein na rahe ki unke jalse unhen namaaze chhodne ke azaab se najaat dilayenge

 hosh ud jaenge baroze Qiyaamat namaazon mein laaparavaahi karne vaalon ke aur
 jaldee-jaldee munaafiko ki see namaaz padhne vaalon ke

chaahiye avaam ho ya khavaas mukarrir ho ya shaayar mudarris ho ya mufti sajjaadaanasheen ho ya
 kisee bade baap ke bete ya badi se badi khaanakah ke mujaavir aur baroze Qiyaamat jab namaazon ka hisaab liya jaega to pata chalega ki kaun kaun kitna bada khaadime deen aur islaam ka thekedaar tha?

  khulaasa yah hai ki raat ko der tak jaagana aur subah ko der se uthne kee aadat achchhee nahin

 haan agar koee shakhs ilme deen ke seekhne sikhaane ya ibaadat baar raat mein raat ko jaage aur fajar kee namaaz bhee ahatimaam ke saath ada kar le to vah mard e mujaahid he

 is message se ko apne sabhee bhaiyon baheno tak Zaroor share karen Allaah amal kee taufeek de Aameen

Ye bhi Padhen  ↓ ↓ ↓ ↓ ↓ ↓
► Namaz-padhne-ka-tareeqa
► Ghusal-ka-tareeqa
► Wuzu-Ka-Tariqa
► Jannat-Me-Jane-Ka-Rasta
► ZUBAAN-KI-HIFAAZAT