17 अग॰ 2016

कमसिन बच्चो को मस्जिद में लाना

कमसिन बच्चो को मस्जिद में लाना Kamsin Bachcho Ko Masjid Mein Laana

कमसिन बच्चो को मस्जिद में लाना


 ज्यादा छोटे ना समझ कमसिन बच्चो का मस्जिद में आना या उन्हे लाना शरअन नापसन्दीदा नाजाइज़ व मकरुह है

 कुछ लोग औलाद से बे जा मुहब्बत करने वाले नमाज के लिए मस्जिद  में आते है तो अपने साथ कमसिन नासमझ बच्चो को भी लाते है यहाँ तक कि बाज लोग उन्हे अगली सफो में अपने बराबर नमाज में खड़ा कर लेते है

यह तो निहायत गलत बाते है और इससे पिछली सफो के सारे नमाज़ियो कि नमाज़ मकरुह होती है और उसका गुनाह उस लाने और बराबर में खड़ा करने वाले पर है
और उन पर जो उससे हत्तल मकदूर मना ना करे

 हाँ जो समझदार होशियार बच्चे हों नमाज के आदाब से वाकिफ पाकी और नापाकी को जानते हों
उनको आना चाहिए और उनकी सफ मस्जिद  में बालिग मर्दो से पीचे होना चाहिए
और
ज्यदा छोटे जो नमाज़ को भी एक तरह का खेल समझते और मस्जिद में शोर मचाते खुद भी नहीं पढ़ते और दुसरो की नमाज़ भी खराब करते है

 एेसे बच्चो को सख्ती के साथ मस्जिद में आने से रोकना ज़रूरी है

  हदीस में है
 रसुलूल्लाह ﷺ  ने फरमाया
अपनी  मस्जिदो को बचाओ बच्चो से पागलो से खरीदने और बेचन वालोे से और झगड़े करने से और जोर जोर से बोलने से
 ( ईबने माजा बाब मा यकरहु फिल मस्जिद सफहा 55)




 य़ानी यह सब बाते मस्जिद में नाजाइज़ व गुनाह है सदरूशशरीआ़
हजरत मोलाना अमजद अली साहब आज़मी  रहमतुल्लाहि तआला अलैह लिखते है बच्चे और पागल को जिन से नजासत का गुमान हों  मस्जिद में ले जाना हराम है वरना मकरुह
(बहारे शरीअत हिस्सा सोम सफहा 182)

 कुछ लोग कहते है  की बच्चे मस्जिद में नहीं आयेगे तो नमाज सीखेगे कैसे तो भाईयो समझदार बच्चो के सीखने के लिए मस्जिद है और नासमझ ज्यादा छोटे  बच्चो के लिए घर और मदरसे है

और हदीसे रसुल के आगे अपनी नहीं  चलाना चाहिए
अल्लाह अमल ती तौफीक दे आमीन

Ye bhi Padhen  ↓ ↓ ↓ ↓ ↓

ROMAN MEIN

Kamsin Bachcho Ko Masjid Mein Laana


 Zyada Chhote Na'Samajh kamasin bachcho ka Masjid mein aana ya unhe Laana Sharan Napasandeeda Najaiz va Makaruh hai

Kuchh Log Aulaad se beja Muhabbat KArne Waale NamaZ ke lie Masjid Mein Aate hai to apane saath kamasin nLNaasamajh bachcho ko bhee laate hai yahaan tak ki baaj log unhe Aglee SaFoN mein apne baraabar namaZ mein khada kar lete hai

Ye to nihaayat galat baaten hai aur isase pichhalee safon ke saare nLNamaaziyo ki Namaaz Makaruh Hotee hai aur usaka gunaah us laane aur baraabar Mein khada Karne Waale par hai
aur un par jo usse hattal makdoor mana na kare

haan jo samajhdaar hoshiyaar bachche hon NamaZ ke Aadaab se Waakif paaki aur naapaki ko jaante hon

unko Aana chaahie aur unkee saff masjid mein baalig mardo se peechhe hona chaahie
aur
Zyada chhote jo Namaaz ko bhee ek tarah ka khel samajhte aur masjid mein shor machaate khud bhee nahin padhte aur dusro kee Namaaz bhee kharaab karte hai

 Ese bachcho ko sakhtee ke saath masjid mein aane se rokna zaroori hai

Hadees mein hai
Rasoolullah ﷺ ne farmaaya
Apni Masjido ko bachao bachcho se paagalon se kharidne aur bechne vaalo se aur jhagade karne se aur Zor Zor se bolne se
(ibne Majah baab ma yakrahu fil Masjid Page 55)




 Yaani yah sab baate masjid mein Najaiz va Gunaah hai Sadrush'sharia
hazrat Molaana Amjad Ali sahab Aazmi rahmatullahi ta'ala alaih likhte hai bachche aur paagal ko jin se najaasat ka gumaan ho masjid mein le jaana haraam hai Warna makaruh
(bahaare shariat hissa som Page 182)

kuchh log kehte hai kee bachche masjid mein nahin aayege to namaaz seekhege kaise to bhaiyo samajhdaar bachcho ke seekhne ke lie masjid hai aur na'samajh Zyaada chhote bachcho ke lie ghar aur madarse hai

aur hadeese Rasul ﷺ ke Aage apnee nahin chalaana chaahie
Allah Amal ki taufeek de Aameen